श्री कृष्ण और कालिया नाग दमन~Krishna & Kaliya Naag Story

0 0

[ad_1]

Krishna & Kaliya Naag Story – कालिया दमन –

kaliya daman story – श्रीकृष्ण अभी बालक ही थे किन्तु उनपर कंस के राक्षसों द्वारा कई आक्रमण हो चुके थे। अब तक तो पूरा ब्रज भी जान चुका था कि कृष्ण कोई साधारण बालक नहीं हैं। प्रतिदिन कृष्ण अपने मित्रों और बलराम के साथ गौ चराने जाते थे। जब तक गौएँ चरती थीं, बालक भिन्न-भिन्न प्रकार के खेल खेलते थे। अधिकतर उनका जमावड़ा यमुना नदी के तट पर ही होता था। एक बार खेलते-खेलते कृष्ण को बड़ी प्यास लगी। जैसे ही वो यमुना नदी का पानी पीने को बढे, उनके मित्रों ने उन्हें रोक दिया और बताया कि यमुना में कालिया नामक अतिविषधर नाग का निवास है जिसके कारण पुरे यमुना का पानी विषाक्त हो चुका था। यही कारण था कि यमुना के इतने पास होने पर भी ब्रजवासियों को बड़ी दूर से पानी लाना पड़ता था।

इस संकट को जान कर श्रीकृष्ण ने मन ही मन इससे मुक्ति दिलाने की ठान ली। खेल-खेल में ही उन्होंने अपनी गेंद यमुना में फेंक दी और सब के लाख समझने के बाद भी वो उसे लाने के बहाने यमुना में कूद पड़े। जब सबने ऐसा देखा तो दौड़ कर नन्द और यशोदा को इसकी खबर की। बलराम तो सब जानते ही थे, इसी कारण वे वही निश्चिंत खड़े रहे। कृष्ण के यमुना में कूदने की बात सुनकर सभी दौड़े-दौड़े यमुना तट पर पहुँचे। वहाँ नदी में कोई हलचल ना देख कर सबने कृष्ण की आशा ही छोड़ दी। यशोदा तो दुःख से अपनी चेतना ही खो बैठी। ये सत्य था कि कृष्ण और बलराम ने अब तक कई राक्षसों का वध किया था किन्तु इस प्रकार के महाविषधर से उनका सामना कभी नहीं हुआ था। और वैसे भी कृष्ण अभी एक बालक ही तो था।

उधर कृष्ण यमुना के भीतर पहुँचे और कालिया नाग को खोजने लगे। यमुना का जल उस विषधर के विष से पूर्ण विषाक्त हो चुका था किन्तु विष कृष्ण का क्या बिगाड़ लेता? अचानक उन्हें यमुना के मध्य में तेज हलचल दिखाई दी। जब वो वहाँ पहुँचे तो उन्होंने १०० फण वाले उस महाभयंकर नाग को देखा। वो इतना विशाल था कि दूर-दूर तक केवल उसी का शरीर दिख रहा था। उसके फणों से तेज विष का स्राव हो रहा था जिस कारण यमुना विषाक्त हो रही थी।

जब कालिया ने एक बालक को इस प्रकार निर्भय अपने सामने देखा तो आश्चर्य से भर गया। आज तक किसी देवता ने भी इस प्रकार कालिया के सम्मुख आने का साहस नहीं किया था फिर ये बालक अचानक यहाँ कैसे आ गया? ऐसा सोच कर कालिया तीव्र वेग से कृष्ण के वध हेतु उनकी ओर लपका। कृष्ण ने बात ही बात में कालिया की पूँछ पकड़कर उसे बड़ी दूर फेंक दिया। एक बालक में इस प्रकार का बल देख कर कालिया सोच में पड़ गया किन्तु फिर अपनी पूरी शक्ति से कृष्ण पर टूट पड़ा।

दोनों में भयानक युद्ध छिड़ गया। कृष्ण ने जल्द ही अपने प्रहारों से कालिया को व्यथित कर दिया। उनके प्रहारों से कालिया के शरीर से रक्त की धारा बह निकली और वो पीड़ा से अचेत हो गया। अब कृष्ण ने उसके वध की ठानी किन्तु उसी समय उस विषधर की पत्नियाँ वहाँ आ गयी और उन्होंने कृष्ण से क्षमा की याचना की। कृष्ण ने उनकी प्रार्थना सुन ली और इस शर्त पर कालिया के प्राणों का दान दिया कि वो यमुना को छोड़ कर हमेशा के लिए चला जाएगा।

अब तक कालिया भी ये समझ चुका था कि ये कोई साधारण बालक नहीं है। उसने कृष्ण से उनका असली स्वरुप दिखाने की प्रार्थना की और तब कृष्ण ने उसे अपने नारायण रूप के दर्शन दिए। तब कालिया ने उनकी चरण वंदना करते हुए कहा – “हे प्रभु! आप तो हम सभी के आराध्य भगवान शेषनाग के भी आराध्य हैं। भला मैं आपको कैसे परास्त कर सकता हूँ। आपकी आज्ञा के अनुसार मैं यमुना को छोड़ कर चला जाऊँगा। मेरी केवल एक विनती है कि जिस प्रकार हमारे आराध्य श्री अनंत आपको धारण करने का सौभाग्य प्राप्त करते हैं, एक बार मुझे भी आप ये सौभाग्य प्रदान करें।” कृष्ण ने प्रसन्न होकर तथास्तु कह दिया।

उधर ऊपर जब सबने यमुना का जल रक्तिम होते देखा तो सबने समझा कि कालिया नाग ने कृष्ण की हत्या कर दी। सभी शोक में रुदन करने लगे। तभी जल में एक तेज हलचल हुई और महाभयंकर नाग जल से ऊपर आया। उसका रूप इतना भयानक था कि कई लोग तो उसके दर्शन मात्र से अचेत हो गए और कइयों ने भय से अपने नेत्र बंद कर लिए। तभी सब ने देखा कि उस विशाल नाग के सर पर कृष्ण विराजमान हैं।

वहाँ कृष्ण उसी प्रकार शोभा पा रहे थे जिस प्रकार काले मेघों में तड़ित शोभायमान होती है। उसके बाद कृष्ण ने कुछ समय तक अपनी लीला दिखाई। उन्होंने कालिया के फणों पर एक अत्यंत महोहरी नृत्य करना आरम्भ किया। कालिया जो भी फण उठता, कृष्ण उसी फण पर नृत्य कर उसका मर्दन कर देते। श्रीकृष्ण की ये लीला देखने के लिए देवतागण भी आकाश में स्थित हो गए। कुछ काल तक कृष्ण ये लीला करते रहे और फिर शर्त के अनुसार कालिया यमुना को छोड़ कर चला गया। पूरा ब्रज कृष्ण की जयजयकार से गूँज उठा।

[ad_2]
Source link

SEOClerks
Leave A Reply

Your email address will not be published.